Do you have a passion for writing?Join Ayra as a Writertoday and start earning.

दहलीज़

दहलीज़

ProfileImg
01 Jun '24
1 min read


image

कुछ औरते ओढ़ कर ख़ामोशी की चादर
उसी दहलीज पर लौटती हैं
जिसे लाँघते वक्त
सोचा था अब नही लौटूंगी
मगर वे ये न समझ पाई
कि वो तो जा ही नहीं पाई

वो तो अपने परिवारकी धरा है , जिस बीज को उसने पेड़ बनाया उसे कैसे छोड़ कर जा 

सकती थी
वही घर के बाहर पेड़ की छांव में
बैठ गई थीं और वही बैठी रही थी सांझ तक

उससे बाते करती इक सखी की तरह


उसी को अपने सारे सुख दुख को सुनाती
बैठी रही थीं
और साझ ढले फिर लौट आती है
अपनी कर्म भूमि पर जाने कितने ही रूपों के साथ जननी, पत्नी ,बहू, भाभी आदि के साथ
अधिकार स्वरूप 
अपना जी हल्का करके खुद को समझा कर

खुद को सहेजते और सम्हालते हुऐ
लौट आती है फिर उसी दहलीज पर
इस बार बाहर से लाँघती है
अंदर की तरफ
स्वरचित
Sunita tripathi अंतरम 🙏🏻



ProfileImg

Written by Sunita Tripathi