Do you have a passion for writing?Join Ayra as a Writertoday and start earning.

प्रेम बहुत कुछ देता है..

ProfileImg
03 May '24
1 min read


image

बरसों से हिले विश्वास की नींव में
जड़ देता है एक पत्थर मजबूती का
और धूल खाते खंडहरों में खड़ा हो जाता है
स्वप्नों का एक खूबसूरत महल

वे रेगिस्तान जो सदियों से जल रहे थे
ज़िन्दगी की तपती धूप में
उन पर छा जाती हैं मेघमालायें
और झूम कर बरस जाते हैं सावन

वे फूल जो मुरझा गए थे पतझड़ में
प्रेम के स्पर्श से फिर खिल गए
प्रेम हमेशा बारिश-सा नहीं होता
कभी-कभी ओस की बूंदों सा ठहर जाता है
पत्तों की नोक पर

वे होंठ जो मुस्कराना भूल गए थे
उन पर थिरक उठा मधुर हास
उनके कहकहे संगीत-से घुल गए
वासन्ती बयार के संग

वे आँखें जिनमें भय था संसार के
क्रूरतम कृत्यों के आघात का
चमक रही थीं नन्हें शिशुओं की
सरल , सुंदर चितवन सी

स्पर्श जिस देह को आशंकित कर देता था
किसी अनहोनी के डर से
वो खिल उठी ऋतुराज सी
प्रेम ने जब भी अभयदान दिया

आँखें मूंद समेट लेता है बाँहों में
सकारात्मकता, सम्मान और स्नेह से
भर देता है बरसों से रीता मन
नष्ट कर देता है सारे दुःख सारी पीड़ाएँ
मिटाकर सारे भय निर्भय कर देता है

प्रेम सच में बहुत कुछ देता है...।"

Category : Poem


ProfileImg

Written by Aishwary raj