Do you have a passion for writing?Join Ayra as a Writertoday and start earning.

गजल

जख्म

ProfileImg
23 May '24
2 min read


image

कौन अछूता जख्म सभी आघात से रखने पड़ते है

उजियारे को भी कुछ रिश्ते रात से रखने पड़ते है


 

मोन मुखर हो तो शब्दो का कोई मोल नही होता पर

चुप को भी तो कितने नाते बात से रखने पड़ते है


 

देह अकेली कैसे जाए वरने साँसों की दुल्हन

उसको अपने संग साये बारात से रखने पड़ते है


 

दौर बनावट का है प्यारे सब ही बुनावट भूल गए

बच्चों को भी ज्यादा तर औकात से रखने पड़ते है


 

कौन घड़ी ना जाने लब्ज बने ओर छलके लब पर

मुझको मेरे दर्द बड़े अहतियात से रखने पड़ते है


 

राते जब जब बौ जाती है कुछ सपने मन कि क्यारी में

तब आँखों के मौसम भी बरसात से रखने पड़ते है


 

दुनियाँ की शतरंज निराली सब अपने पर दामन खाली

इसमें सब राजे प्यादे इक जात से रखने पड़ते है


 

जीने की ख्वाइश भी है मरने का अंदाज भी जीवन

वक्त से पाये पल हमको सौगात से रखने पड़ते है


 

रिश्तों ने भी अब तो समझो उड़ना सीखा पंख लगा कर

कस के मुठ्ठी उनको भी जज्बात से रखने पड़ते है


 

रोना धोना जीवन का इक पल में तमाशा बन जाता है

मुस्कानों से मथ आँसू हालात से रखने पड़ते है


 

माना की मिट ही जाना है फिर भी संभाले फिरते है

अस्थि के पिंजर ये हमको गात से रखने पड़ते है



 

मुकेश सोनी सार्थक



ProfileImg

Written by Mukesh Soni