Do you have a passion for writing?Join Ayra as a Writertoday and start earning.

अम्बे का जयकारा

ProfileImg
25 May '24
1 min read


image

सारे जग की जननी को है, अर्पित नमन हमारा।
जी करता है आज लगाऊं, अम्बे का जयकारा।।

मां से अधिक न कोई जाने, क्या शिशु की अभिलाषा।
मां ही पूरी कर सकती है, हम शिशुओं की आशा।।
सन्तानों को मां से बढ़कर, भला कौन है  प्यारा।
जी करता है आज लगाऊं, अम्बे का जयकारा।।

केवल जन्म नहीं देती मां, लालन-पालन करती।
प्राण निछावर करके भी वह, शिशु की पीड़ा हरती।।
जब-जब संकट आता तब-तब, देती हमें सहारा।
जी करता है आज लगाऊं, अम्बे का जयकारा।।

हर मां अपने त्याग के लिए, जग में जानी जाती।
अपनी सन्तानों के संकट, प्रतिपल परे हटाती।।
अपनी सन्तति के वैरी को, आगे बढ़ ललकारा।
जी करता है आज लगाऊं, अम्बे का जयकारा।।

मां के चरणों में जन्नत है, धर्मशास्त्र बतलाते।
जो मां के आराधक साधक, जग में सुयश कमाते।।
मां की सेवा को सर्वोपरि, गया सदा स्वीकारा।
जी करता है आज लगाऊं, अम्बे का जयकारा।।

महेश चन्द्र त्रिपाठी

Category:Poetry


ProfileImg

Written by Mahesh Chandra Tripathi