Do you have a passion for writing?Join Ayra as a Writertoday and start earning.

विश्व हिन्दी दिवस: भाषा का सार्वभौमिक समर्थन

विश्व हिन्दी दिवस - वैश्विक महत्व की प्रतिष्ठा

ProfileImg
10 Jan '24
5 min read


image

भाषा, एक ऐसा साधन है जो समृद्धि की ऊँचाइयों की ओर हमें पहुंचाने में सहायक हो सकता है। और जब इस भाषा की बात हो, तो विश्व हिन्दी दिवस का आयोजन हमें एक ऐसे सांस्कृतिक धरोहर की ओर मोड़ने का अवसर प्रदान करता है, जो न केवल भारतीय उपमहाद्वीप में, बल्कि पूरे विश्व में गौरव और समृद्धि का स्रोत है। 

विश्व हिन्दी दिवस का महत्व:

विश्व हिन्दी दिवस, भारतीय संघबद्धता के एक रंगीन त्योहार की भाषा है। इस दिन को मनाने से पहले हमें यह समझना आवश्यक है कि हिन्दी भाषा का महत्व केवल एक देश के सीमाओं से ही बाहर निकलकर दुनिया भर में फैलता है।

हिन्दी: एक सांस्कृतिक बातचीत का साधन:

हिन्दी भाषा विविधता का प्रतीक है और यह विविधता ही हमें आपसी समरसता का अहसास कराती है। इसमें विभिन्न शैलियों, विचारधाराओं, और भावनाओं का समाहार छिपा होता है जो लोगों को समृद्धि और सांस्कृतिक समृद्धि के साथ जोड़ता है। इसे विश्व हिन्दी दिवस पर मनाना हमारे लिए एक और अवसर है अपनी भाषा की गहराईयों में खोने का और उसकी समृद्धि को समझने का।

हिन्दी भाषा का अन्तरराष्ट्रीय पैम्बर:

हिन्दी भाषा ने अपनी सांस्कृतिक और भौतिक सामरिकता के साथ विश्व स्तर पर अपनी पहचान बनाई है। बॉलीवुड फ़िल्में, हिन्दी गीतों की धुन, और साहित्यिक योगदान ने विश्व भर में भारतीय सांस्कृतिक विरासत को आकर्षित किया है। विश्व हिन्दी दिवस के माध्यम से हमें यह दिखता है कि हिन्दी का प्रभाव सिर्फ भारत की सीमाओं में ही नहीं, बल्कि संगीत, सिनेमा, और साहित्य के माध्यम से दुनियाभर में महसूस हो रहा है।

हिन्दी भाषा: साहित्यिक धरोहर की हिफाजत:

हिन्दी भाषा ने अपने साहित्यिक और कला संरचनाओं के माध्यम से अपनी धरोहर को सजीव रखा है। इसे सांस्कृतिक और साहित्यिक विरासत का रखवाला मानना चाहिए जो हमें अपने पूर्वजों की गाथाएं, कल्चित्र, और संगीत से मिलती हैं। इसके माध्यम से हम अपनी भाषा की सांस्कृतिक समृद्धि को बचाए रख सकते हैं। विश्व हिन्दी दिवस हमें याद दिलाता है कि हमें अपने सांस्कृतिक निरंतरता की हिफाजत करने का कर्तव्य है, ताकि आने वाली पीढ़ियां भी इसे महसूस कर सकें और उससे जुड़ सकें।

विश्वभर में हिन्दी का समर्थन:

हिन्दी भाषा का समर्थन केवल भारतीय समुदायों तक सीमित नहीं है। इसे विश्वभर में समर्थन और प्रमोशन के लिए हमें सक्रिय रूप से काम करना होगा। हिन्दी को एक आंतरदृष्टिक भाषा बनाए रखने के लिए, हमें अपने शिक्षा और साहित्यिक संस्थानों को मजबूती से समर्थन करना चाहिए। इसके लिए विभिन्न स्तरों पर योजनाएं बनानी चाहिए जो विशेषकर बच्चों को हिन्दी में शिक्षा की पहुंच प्रदान करें।

हिन्दी का सामूहिक संबंध:

विश्व हिन्दी दिवस के माध्यम से हमें यह याद दिलाना चाहिए कि हिन्दी भाषा हमें एक सामूहिक भावना का अहसास कराती है। यह हमें विश्वभर के लोगों के साथ जोड़ने का साधन बनती है, समरसता की भावना को बढ़ावा देती है, और एक साथीता भावना का निर्माण करती है। हिन्दी न केवल भाषा है, बल्कि एक सांस्कृतिक और सामाजिक संबंध का सूत्र भी है जो लोगों को एक-दूसरे के साथ जोड़ता है।

विश्वभर में हिन्दी की ऊंचाइयों का समर्थन:

विश्व हिन्दी दिवस हमें यह याद दिलाता है कि हिन्दी भाषा का समर्थन केवल भारत में ही नहीं, बल्कि विश्वभर में होना चाहिए। इसके लिए हमें सामूहिक सचेतना बढ़ाने के लिए अधिक शिक्षा योजनाएं शुरू करनी चाहिए, जिससे लोग हिन्दी की महत्वपूर्णता को समझें और उसे अपनाएं। विभिन्न सामाजिक मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स का उपयोग करके हिन्दी के लाभों और सौंदर्य को साझा करने में हमारा सक्रिय हिस्सा बनना चाहिए।

समापन:

विश्व हिन्दी दिवस का यह महत्वपूर्ण दिन हमें हिन्दी भाषा की महत्वपूर्णता को समझाने, समर्थन करने, और उसका समृद्धिशील भविष्य की दिशा में प्रेरित करता है। हमें यहाँ तक समझना चाहिए कि हिन्दी भाषा सिर्फ एक शब्दों का समृद्धिशील संग्रह नहीं है, बल्कि यह हमारी भौतिक, भावनात्मक, और सांस्कृतिक पहचान का हिस्सा भी है।

हिन्दी का भविष्य:

विश्व हिन्दी दिवस एक दिन नहीं है, बल्कि यह एक उत्साहजनक आरंभ है जो हिन्दी भाषा को और भी विश्वस्तर पर प्रमोट करने के लिए हमें आमंत्रित करता है। भविष्य में, हमें इस भाषा के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को बढ़ाना चाहिए। शिक्षा, साहित्य, और कला के क्षेत्र में हिन्दी को और भी समृद्धि की ऊँचाइयों तक पहुंचाने के लिए हमें संयमित प्रयासों का हिस्सा बनना चाहिए।

समर्पण:

विश्व हिन्दी दिवस के इस अद्वितीय मौके पर, हमें हिन्दी भाषा के प्रति हमारे समर्पण को और बढ़ाने का समय है। इस भाषा को सिर्फ एक स्वदेशी भाषा के रूप में देखना बंद करें और उसे विश्वभर में एक सांस्कृतिक सूचक होने का दर्जा प्रदान करें। इससे हम एक सामूहिक समरसता और विश्वव्यापी समर्थन की ऊँचाइयों की ओर कदम बढ़ा सकते हैं।

निष्कर्ष:

विश्व हिन्दी दिवस हमें हिन्दी भाषा के रूप में हमारी सांस्कृतिक विरासत के मौजूद और आगामी समय में इसे समृद्धि की ओर बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण मौका प्रदान करता है। हमें इस दिन को सिर्फ एक सांस्कृतिक उत्सव के रूप में नहीं, बल्कि एक सामूहिक उत्साह और समर्पण के रूप में भी देखना चाहिए। हिन्दी भाषा को समर्थन देना हमारी सांस्कृतिक पहचान को मजबूती और गौरव से भर देगा, और एक बेहतर भविष्य की ओर हमें मोड़ने में मदद करेगा।

Category : Literature


ProfileImg

Written by DEEPAK SHENOY @ kmssons